Topiwala feriya aur Bandar The cap seller and the Monkeys

topiwala aur bandar hindi kahaniya
            बहुत समय पहले की बात हे।  एक बहुत सुन्दर गांव था।  गांव में एक टोपी बेचने वाला रहता था। वो रोज़ टोपी बेचने दूसरे गांव में जाता था और सामको वापस आता था। इस तरह वो आपना गुजरान चलाता था। गांव के आगे एक बहुत बड़ा पेड़ था।वो पेड़ के ऊपर बहुत सारे बंदर रहते थे।  बंदर बहुत ही नटखट थे। 

topiwala aur bandar hindi kahaniya
          एक बार वो टोपी बेचने वाला सामको टोपी बेचके गांव वापस आ रहा था। वो बहुत थक गया था। उसने सोचा की वो थोड़ी देर पेड़ के निचे आराम करले। वो उस बड़े पेड़ के निचे गया। 



topiwala aur bandar hindi kahaniya
पेड़ के निचे बैठ कर वो आराम करने लगा। बहुत थक जाने के कारण उसे नींद आगई।  वो पेड़ की छांव में सो गया। पेड़ के ऊपर बैठे बंदरो ने उसे सोते हुवे देखा।  वो निचे उतरे और टोपी वाले की सारी टोपी ले कर पेड़ के ऊपर चढ़ गए। 

टोपी वाले की नींद खुली। उसने देखा की उसकी सारी टोपी गायब हे। उसने इधर उधर खोजा। उसको टोपी नहीं मिली। उसने ऊपर पेड़ पे देखा तो सारी टोपी बंदर के पास थी। 

topiwala aur bandar hindi kahaniya
टोपीवाला सोच में पद गया। बंदर से वो कैसे अपनी टोपी वापिस ले।  उसने अपना माथा खुजाया और बंदर की और देख ने लगा। टोपीवाला देखता हे सारे बंदर माथा खुजा रहे हे और उसकी नक़ल कर रहे हे। टोपीवाले के दिमाग में एक तरकीब आई।  उसने अपने सर के ऊपर पहनी हुई टोपी निचे ज़मींन पर फैक दी। बंदरो ने भी उसकी नक़ल की और सारी टोपी निचे फेक दी। टोपीवाले ने जल्दी से अपनी सारी टोपी इकठा करली और अपने गांव चला गया। 

शिक्षा :- समझदारी से हर समस्या का समाधान होता हे। 
             कभी भी किसी की नकल नहीं करनी चाहिए। 






Previous
Next Post »