मूर्ख कौवा और चालक लोमड़ी The Fool Crow and Clever Fox

एक घना जंगल था।  जंगल में एक चालक लोमड़ी रहती थी। उसी जंगल में एक पेड़ पर एक कौवा रहता था।  दोनों अपनी अपनी जिंदगी में खुश थे। एक दिन की बात हे लोमड़ी बहुत भूखी थी।  वो जंगल में खाना ढूढ़ने निकली बहुत घूमने  के बावजूत उसे खाना नहीं मिला। बहुत घूमने के बाद उसने देखा की एक कौवा अपनी चांच में रोटी रखकर पेड़ पर बैठा हे।  तुरंत लोमड़ी के चतुर दिमाग में एक तरकीब सूजी। 

मूर्ख कौवा और चालक लोमड़ी The Fool Crow and Clever Fox हिंदी कहानिया


लोमड़ी कौवे के पास गई और उसने कौवे से कहा। क्या कौवाभाई कैसे हे आप? आप कितना अच्छा गाते हे। आपकी आवाज़ तो इतनी सुरीली हे की अगर कोई सुनले तो बस सुनता ही जाए। आज मुजे अपना गाना सुना दीजिये। में आपका गाना सुनने के लिए उतावला हु। आज तो में आपका गाना सुनके के ही जावुंगा। 

मूर्ख कौवा और चालक लोमड़ी The Fool Crow and Clever Fox हिंदी कहानिया


कौवा अपनी खुशामत सुनकर बहुत खुश हुवा।  कौवे को लगा के वाकई में वो बहुत बड़ा गायक हे। कौवे ने खुश हो कर गाना शुरू किया। जैसे ही कौवे ने गाना शुरू किया की तुरंत उसके मुँह में रखी रोटी निचे गिर गई। निचे गिरी रोटी को चालक लोमड़ी ने तुरंत उठाली और खा गई। लोमड़ी  रोटी खा कर वहा से चलती बनी और कौवा देखता रह गया।  



मूर्ख कौवा और चालक लोमड़ी The Fool Crow and Clever Fox हिंदी कहानिया

शिख :- हमेसा खुशामत करने वालो से सावधान रहना चाहिए। 
            जूठी खुशामत सुन कर बहुत खुश नहीं होना चाहिए। 
Previous
Next Post »